Monday, July 27, 2020

चमत्कारी मछली | Hindi kahani with moral

Hindi kahani with moral

एक बार की बात है एक मछुआरा था जो समुंदर से मछली पकड़कर बाज़ार में बेचा करता था

एक दिन वह रोज की तरह मछली पकड़ने गया, जैसे ही मछुआरे ने जाल फेंका तो उसमें बहुत सी मछलियाँ फंस गयीं

Hindi kahani with moral
Hindi kahani with moral

अब मछुआरा फंसी हुई मछलियों को जाल से निकालकर अपने पात्र में रखने लगा तभी उसको एक आवाज़ सुनाई दीमुझे मत पकड़ो, मुझे छोड़ दो | मछुआरे ने आवाज़ सुनकर इधर उधर देखा लेकिन वहां कोई नहीं था |

Hindi kahani with moral
Hindi kahani with moral

थोड़ी देर बाद फिर से आवाज़ आईहे मछुआरे मुझे छोड़ दे | मछुआरे ने ध्यान से पात्र की तरफ देखा तो वह हैरान हो गया, एक छोटी सी मछली जो बोल रही थी

मछुआरे ने पूछातुम बोल कैसे सकती हो ? कौन हो तुम ? और अगर मैं तुम्हें छोड़ दूं तो खाऊंगा क्या ? मेरी जीविका कैसे चलेगी

मछली ने मुछुआरे से कहातुम मुझे छोड़ दो, मैं तुम्हें इसके बदले में ढेर सारा धन दूंगी या जो भी तुम मांगोगे मैं तुम्हें दूंगी

मछुआरे ने कहाठीक है ! मैं सभी मछलियों को छोड़ दूंगा यदि तुम मुझे पर्याप्त धन दो

Hindi kahani with moral
Hindi kahani with moral

मछली ने अपनी माया से मछुआरे के पात्र को सोने चांदी एवं मोतियों से भर दिया | यह देखकर मछुआरे ने सभी मछलियों को वापस समुंदर में छोड़ दिया और पात्र का धन लेकर वापस घर चल दिया |

Hindi kahani with moral

घर पहुँचकर मछुआरिन ने पूछामछलियाँ कहाँ हैं ? मछुआरे ने धन भरे पात्र को मछुआरिन को दे दिया और कहाआज मछ्लियां तो नहीं है लेकिन उससे भी ज्यादा कीमती चीज़ है |

मछुआरिन ने जैसे ही पात्र में सोना चांदी आदि देखा तो वह दंग रह गयी | मछुआरिन ने पूछाये सब कहाँ से लाये हो आप ? क्या आपने चोरी की है ?

मछुआरे ने सारी बात अपनी पत्नी को बताई कि एक चमत्कारी मछली ने उसे यह सब दिया है |

मछुआरिन ने कहाअगर ऐसी बात है तो तुम्हे मछली से और अधिक धन माँगना चाहिए था जिससे हमारे दिन बदल सकें, यह धन भला कितने दिन चलेगा, वह जरुर कोई दिव्य आत्मा है, यदि तुम इस बार वहां जाओ तो मछली से ढेर सारा धन माँगना जिससे हमें फिर से मछली पकड़ने का ये तुच्छ काम करना पड़े और हमारे दिन बदल सकें |

मछुआरे ने अपनी पत्नी की बात मान ली और वह कुछ दिन बाद वापस समुंदर के किनारे गया | मछुआरे ने समुंदर के किनारे पहुंचकर मछली को आवाज़ दी |

आवाज़ सुनकर वह चमत्कारी मछली किनारे गयी और पूछाक्या बात है ?

मछुआरे ने कहायदि आप सच में मेरा भला करना चाहती हैं तो मुझे इस मछली पकड़ने के तुच्छ काम से निजात दिलाएं, मैं कोई अन्य व्यापार करना चाहता हूँ और इसके लिए मुझे बहुत सारे धन की आवश्यकता है

Hindi kahani with moral
Hindi kahani with moral

मछली ने मछुआरे की बात सुनकर उसको ढेर सारा धन दे दिया | मछुआरा धन लेकर घर गया और अपनी पत्नी को सारा धन दे दिया | दोनों पति पत्नी बहुत खुश हुए और ठाट से रहने लगे |

कुछ ही दिनों में मछुआरिन को महसूस हुआ कि उनके पास धन तो बहुत है लेकिन गाँव के लोग उन्हें अभी भी मछुआरा ही समझते हैं, उन्हें वह सम्मान नहीं देते |

मछुआरिन ने अपने पति से कहाऐसे धन का क्या फायदा जब लोग तुम्हें सम्मान दें | मछुआरे ने कहाक्या चाहती हो तुम ?

मछुआरिन बोलीऐसे धन का क्या लाभ है, लोग तो अभी भी हमें मछुआरा ही समझतें हैं, तुम उस मछली के पास जाओ और कहो कि हमें इस नगर का राजा बना दे ताकि लोग हमारा सम्मान करें |

मछुआरे ने कहाइतना लालच करना ठीक नहीं, मछली ने यदि मना कर दिया तो ?

मछुआरिन बोलीतुम जाओ तो, वह भला क्यों मना करेगी | उसको कहना कि तुम्हारे दिए धन का क्या लाभ जब लोग हमारा सम्मान ही नहीं करते |

Hindi kahani with moral

मछुआरा फिर से मछली के पास जाता है और सारी बात बताता है | मछली अपनी माया से मछुआरे को राजा बना देती है और एक शानदार महल शहर के बीचोंबीच बनकर तैयार हो जाता है |

Hindi kahani with moral
Hindi kahani with moral

मछुआरा और उसकी पत्नी दोनों बहुत खुश होते हैं और ठाट से वहां रहने लगते हैं |

कुछ समय बाद मछुआरिन को एहसास होता है कि आस पड़ोस के अन्य राजा उससे ज्यादा धनी एवं समृद्ध हैं, उसके मन में फिर से लालच आता है और अपने पति से कहती हैकैसा हो यदि तुम चक्रवर्ती सम्राट बन जाओ और सारे राजा तुम्हारे अधीन हो जाएँ |

मछुआरा मना करता है और कहता हैइतना अधिक लालच करना ठीक नहीं, अब हमें भला किस चीज़ की कमी है ?

मछुआरिन कहती हैतुम्हें कौन सा कुछ करना है, बस तुम जाओ और मछली से कहो कि तुम्हें चक्रवर्ती सम्राट बना दे |

मछुआरा पत्नी के आगे विवश होकर फिर से मछली के पास जाता है और कहता है कि मुझे चक्रवर्ती सम्राट बना दो, सारे अन्य राजा मेरे अधीन हो जाएँ |

मछली अपनी माया से उसे चक्रवर्ती सम्राट बना देती है | अब मछुआरा चक्रवर्ती सम्राट बन जाता है और दोनों पति पत्नी ख़ुशी ख़ुशी रहने लगते हैं |

कुछ समय बाद फिर से मछुआरिन का लालच बढ़ता है और अपने पति से कहती हैकैसा हो यदि सूर्य, चंद्रमा, मेघ आदि तुम्हारी आज्ञा मानें, जब तुम चाहो तब बारिश हो, जब तुम चाहो तब दिन हो और जब तुम चाहो त रात हो |

Hindi kahani with moral
Hindi kahani with moral

मछुआरा कहता हैतुम्हारा दिमाग ख़राब हो गया है क्या ? ऐसा भला कैसे हो सकता है ?

Hindi kahani with moral

मछुआरिन कहती हैमछली से कहकर देखो, जब इतना कुछ कर सकती है तो ये भी कर सकती है |

मछुआरा कहता हैमैं जैसा हूँ, ऐसा ही ठीक हूँ | मुझे इससे अधिक और कुछ नहीं चाहिए |

मछुआरिन कहती हैतुम्हें नहीं चाहिए लेकिन मुझे चाहिए, मछली से कहो कि सूर्य, चंद्रमा, मेघ आदि मेरी आज्ञा मानें |

मछुआरा फिर से मछली के पास जाता है और सारी बात बताता है | सारी बातें सुनकर मछली को क्रोध जाता है  |

मछली कहती हैतू और तेरी पत्नी दोनों मूर्ख हो, तुम्हें इतना भी नहीं पता कि सूर्य चंद्रमा ये सब मनुष्य के हाथ में नहीं है, मैंने तुम्हें पहचानने में भूल कर दी, वास्तव में तुम इस धन एवं सम्मान के काबिल नहीं हो | जाओ तुम जैसे पहले थे वैसे ही बन जाओ |

मछुआरा और उसकी पत्नी  फिर से पहले की तरह गरीब बन जाते हैं |

इस कहानी से यह शिक्षा मिलती है कि ज्यादा लालच करना कभी कभी सर्वनाश का कारण बन जाता है इसलिए हमें अधिक लालच नहीं करना चाहिए और अपनी मेहनत से सफलता हासिल करनी चाहिए कि दूसरे की कृपा से | ***


इन्हें भी पढ़ें :-






No comments:

Post a Comment