Thursday, August 06, 2020

प्रेरणादायक कहानी | Short motivational story in Hindi

Short motivational story in Hindi

एक बार की बात है, एक कौआ अपने कालेपन से बहुत परेशान था |

वह एक सन्यासी जो वन में तपस्या कर रहे थे, उनके पास गया और अपनी परेशानी बताई कि तो मैं सुंदर हूँ, कोई मुझे पसंद नहीं करता | जहाँ भी मैं जाता हूँ, सब मुझे वहां से उड़ाकर भगा देते हैं, कोई मुझे पालना चाहता है, ऐसे बदसूरत शरीर का मैं क्या करूँ ?

Short motivational story in Hindi
Short motivational story in Hindi

सन्यासी बोले- तुम्हारी नज़र में कौन सुंदर है ? तुम किसे सुंदर मानते हो ?

कौआ बोलाहंस, वो इतना सुंदर और प्यारा है, सब उसकी फोटो खींचते हैं, उसको प्यार करते हैं |

 सन्यासी बोलेठीक है, मैं तुम्हें हंस जैसा बना दूँगा लेकिन एक शर्त है | पहले तुम हंस के पास जाओ और उससे पूछो कि वह अपने इस शरीर से खुश है या नहीं |

कौआ सन्यासी की बात मान लेता है और हंस के पास जाता है |

Short motivational story in Hindi
Short motivational story in Hindi

कौआ हंस को सारी बात बताता है तो हंस कहता हैतुम हंस कभी मत बनना, वरना पछताओगे | भला ये भी कोई रंग हैसफ़ेद | पानी के बीच में दिखाई ही नहीं देता हूँ मैं | पता ही नहीं चलता कि लोग पानी में मेरी तस्वीर खीचतें हैं या पानी की | उड़ता हूँ तो आकाश के रंग में घुलमिल जाता हूँ | मैं तो खुद अपने इस रंग से परेशान हूँ |

Short motivational story in Hindi

कौआ पूछता हैफिर तुम्हारी नज़र में कौन सुंदर है ?

हंस उत्तर देता हैतोता, कितना सुंदर पक्षी है, हरा रंग लाल चोंच, दूर से ही दिख जाता है | मैं तोता जैसा बनना चाहता हूँ |

कौआ कहता हैअगर ऐसी बात है तो चलो सन्यासी के पास, हम दोनों तोता बन जाते हैं |

हंस और कौआ दोनों लौटकर सन्यासी के पास आते हैं, सन्यासी को सारी बात बताते हैं और बोलते हैंमहाराज ! हमें आप तोता बना दीजिये |

महाराज बोलते हैंठीक है, मैं तुम दोनों को तोता बना दूंगा लेकिन एक बार तोते से मिल आओ कि उसको तो कोई समस्या नहीं है |

Short motivational story in Hindi
Short motivational story in Hindi

अब हंस और कौआ दोनों तोते के पास जाते हैं और उसको सारी बात बताते हैं तो तोता बोलता हैकुछ भी बन जाना लेकिन तोता कभी ना बनना |

कौआ और हंस पूछते हैंऐसा क्यों कह रहे हो ?

Short motivational story in Hindi

तोता उत्तर देता हैभला ये भी कोई जिंदगी है, आजादी नाम की चीज़ ही नहीं है जिन्दगी मैं | हर कोई मुझे पिंजरे में कैद करना चाहता है, अपना पालतू बनाकर रखना चाहता है, ऐसी जिन्दगी से तो ना होना अच्छा है |

हंस और कौआ, तोते से पूछते हैंफिर तुम्हारी नज़र में कौन अच्छा है ?

तोता उत्तर देता हैमोर, कितना सुंदर है वो, भारत का राष्ट्रीय पक्षी भी है, उस जैसा बनना चाहिए |

हंस, कौआ दोनों कहते हैंअगर ऐसी बात है तो चलो सन्यासी के पास, हम तीनों मोर बन जाते हैं |

तीनों सन्यासी के पास जाकर सारी बात बताते हैं और कहते हैंप्रभु ! आप हमें मोर बना दीजिये |

सन्यासी कहते हैंठीक है मैं तुम्हें मोर बना दूंगा लेकिन शर्त वही है, पहले मोर के पास जाओ और उससे पूछो कि क्या वह अपने इस शरीर से खुश है या नहीं  ?

Short motivational story in Hindi
Short motivational story in Hindi

कौआ, हंस और तोता तीनों मोर के पास जाते हैं और उसको सारी बात बताते हैं तो मोर कहता हैमोर की जिन्दगी भी कोई जिन्दगी है भला | ये मेरे सुंदर पंख ही मेरे सबसे बड़े शत्रु हैं, इन पंखों की वजह से ही शिकारी रोज हमारा शिकार करते रहते हैं, इतना डर डर के जीना भी कोई जीना है ?

Short motivational story in Hindi

कौआ, हंस और तोता तीनो मोर से पूछते हैंफिर तुम्हारी नज़र में कौन सबसे अच्छा है ?

मोर कौए की तरफ इशारा करके कहता हैंतू सबसे सुखी है, तुझे किसी शिकारी का डर, कोई तुझे पालतू बनाकर पिंजरे में कैद करता है, आजादी से रहता है, काले रंग की वजह से दूर से ही दिख जाता है, शान से जीता है | तुझसे ज्यादा सुखी कौन हो सकता है ?

कौए को अपनी अहमियत समझ जाती है, वह खुश होकर वहां से लौटकर सन्यासी के पास जाता है और कहता हैप्रभू ! आपने मेरी आँखें खोल दी, मुझ मूर्ख को रास्ता दिखने के लिए कोटि कोटि धन्यवाद !

Short motivational story in Hindi

ये कहानी उन लोगों के लिए है जो अपने आप में कमियाँ दूंढ़ते रहते है और कुंठा की भावना से ग्रसित रहते हैं | आप ये जान लें कि आप में भी कुछ कुछ विशेष अवश्य है, बस जरुरत है तो उसे पहचानने की | ***



इन्हें भी पढ़ें :-








No comments:

Post a Comment